टैग आर्कईव: गणेश जी की आरती

3 in 1 गणेश जी की आरती

ॐ श्री गणेशाय नमः ! वक्रतुंड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ:। निर्विध्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥ सुखकर्ता दुखहर्ता वार्ता विघ्नाची | नुरवी पूर्वी प्रेम कृपा जयाची | सर्वांगी सुंदर उटी शेंदुराची | कंठी झरके माल मुक्ताफळाची || १ || जय देव जय देव जय मंगलमूर्ती | दर्शनमात्रे मनकामना पुरती || रत्नखचित फरा तूज गौरीकुमरा | चंदनाची उटी कुंकुमकेशरा | हिरे जडित …

और पढ़ें »